हमीरपुर में 2.90 करोड़ की लागत से बना पुल ग्रामीणों के लिये खुला

सुमेरपुर क्षेत्र के पत्यौरा गांव में महिला नाला में 2.90 करोड़ की लागत से पुल का निर्माण तो हो गया है लेकिन इस पुल पर मानसून की पहली बारिश ने ही लोगों के आवागमन पर ब्रेक लगा दिया है। 

हमीरपुर में 2.90 करोड़ की लागत से बना पुल ग्रामीणों के लिये खुला
Hamirpur-Bridge

(हि.स.)

  • ग्रामीणों को बीस किमी का चक्कर लगाकर जाना पड़ता है घर
  • एप्रोच मार्ग में मिट्टी बारिश से बहने के कारण ग्रामीण परेशान

पुल के एप्रोच व दोनों किनारों पर मिट्टी के कार्य होने से बारिश में दलदल हो गयी है जिससे लोगों को पुल से निकलने में भारी दिक्कतें उठानी पड़ रही है। लेकिन सौ मीटर रास्ते में मिट्टी की पुराई हो जाने से बारिश में लोगों का आवागमन बिल्कुल ठप हो जाता है। लोगों को अभी भी 20 किमी का चक्कर काट कर अपने गंतव्य तक जाना पड़ता है। जिससे भारी मुसीबत उठानी पड़ती है। हालांकि लोनिवि जल्द ही रास्ता दुरस्त करने की बात कह रहा है।

पचास हजार आबादी को जिला मुख्यालय से जोड़ने वाला कुछेछा से टिकरौली देवगांव मार्ग में पड़ने वाला महिलानाला पुल वर्ष 2018-19 में बनना प्रारंभ हुआ था। जो बनकर तैयार भी हो गया है।लेकिन पुल के दोनों तरफ हुई मिट्टी की पुराई के कारण आज भी क्षेत्रीय लोग बारिश होने से इस रास्ते से नहीं आ जा पाते हैं। जिससे लोगों को भारी मुसीबतें उठानी पड़ती हैं।

यह भी पढ़ें : कानपुर का बिकरु कांड : यूपी एसटीएफ ने हमीरपुर में मुठभेड़ कर अमर दुबे को किया ढेर

टिकरौली गांव निवासी पंकज सिंह ने बताया कि कार्यदायी संस्था सांई इन्फ्रास्ट्रक्चर ने बारिश के पहले पुल तो तैयार कर दिया है। लेकिन पुल के दोनों तरफ हुई मिट्टी की पुराई के चलते बारिश में लोगों का आवागमन ठप हो जाता है। अगर रास्ते में बजरा या कंकरीट बिछा दी जाए तो जिला मुख्यालय आने जाने वाले लोगों को आवागमन में आसानी मिल सकती है।लेकिन लोनिवि विभाग की उदासीनता के चलते आज भी क्षेत्रीय लोग 20 किमी का चक्कर काटने पर मजबूर है।

पत्योरा निवासी अरबिंद निषाद ने बताया कि हमें प्रतिदिन मुख्यालय जाना पड़ता है।लेकिन करीब दो सौ मीटर रास्ता कच्चा होने के कारण वाहन मिट्टी में फंस जाते हैं।जिससे लोगों को अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ता है।बताया कि जरा सी बारिश होने के बाद पूरा रास्ता ब्लाक हो जाता है। जिससे भरूआ सुमेरपुर से चक्कर काटकर मुख्यालय आना जाना पड़ता है। अगर रास्ते में अभी कंकरीट डलवा दी जाए तो लोगों का आवागमन बाधित नहीं होगा।

यह भी पढ़ें : MP Corona Update : अब तक 625 लोगों की हो चुकी है मौत

अधिषासी अभियंता राजीव कुमार श्रीवास्तव ने कहा कि कार्यदायी संस्था ने पुल तो तैयार कर लिया है। लेकिन पुल के दोनों तरफ मिट्टी की पुराई हो जाने से बारिश में लोगों को परेशानी उठानी पड़ रही है। कहा कि ठेकेदार से कहकर जल्द ही रास्ता ठीक किया जाएगा। जिससे बारिश में लोगों को राहत मिल सके।