कानपुर में बदमाश को पकड़ने गई पुलिस अंधाधुंध फायरिंग,  8 पुलिस कर्मी शहीद

उत्तर प्रदेश के कानपुर जनपद में थाना चौबेपुर के विकरू गांव में विकास दुबे को पकड़ने गई बिठूर पुलिस पर अपराधियों ने ताबड़तोड़ गोलियां बरसा दी। बदमाशों की अंधाधुंध गोलीबारी में सीओ बिल्हौर, थानाध्यक्ष शिवराजपुर, दो एसआई सहित आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए। इसके साथ ही कई पुलिस कर्मी घायल हुए हैं। पुलिस व अपराधियों के बीच अर्धरात्रि से शुरु मुठभेड़ भोर तक जारी रही। मुठभेड़ के दौरान पुलिस कर्मियों के गोली लगने की सूचना मिलते ही एडीजी जोन, आईजी रेंज, डीएम, एसएसपी समेत आलाधिकारियों व सर्किल थानों का फोर्स के अलावा अन्य थाने की पुलिस भी मौके पर पहुच गए हैं। 

कानपुर में बदमाश को पकड़ने गई पुलिस अंधाधुंध फायरिंग,  8 पुलिस कर्मी शहीद
Kanpur Police Encounter

कानपुर, (हि.स.)

  • हत्या समेत कई जघन्य अपराधों में संलिप्त विकास दूबे को पकड़ने गई थी पुलिस की टीमें 
  • मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कानपुर के शहीद पुलिस कर्मियों के प्रति जताया गहरा दुख  

जानकारी के मुताबिक, गुरुवार देर रात सीओ बिल्हौर देवेंद्र मिश्रा के नेतृत्व में बिठूर, चौबेपुर, शिवराजपुर थानों की संयुक्त पुलिस टीमें अपराधी विकास दुबे को पकड़ने के लिए उसके गांव विकरु पहुची और घेराबंदी करते हुए बदमाश की गिरफ्तारी के लिए जाल बिछाया। इस बीच पुलिस के गांव में आने की भनक अपराधियों को लग गई। बताया जा रहा है कि पुलिस की भनक लगते ही बदमाश के गुर्गों ने इस दौरान छतों से ही पुलिस टीमों पर गोलीबारी शुरू दी।

बदमाशों की फायरिंग में सीओ, थानाध्यक्ष, दो दरोगा व चार सिपाहियों को गोली जा लगी और अफरा-तफरी मच गई। बदमाशों की फायरिंग की जानकारी आलाधिकारियों को दी गई और गोली लगने से कई घायल पुलिस कर्मियों को लेकर साथी कर्मी जान जोखिम में डालकर बदमाशों की फायरिंग के बीच से निकालकर पास के अस्पताल पहुची। जहां से उन्हें रीजेंसी ले जाया गया और उपचार शुरू हुआ।

यह भी पढ़ें : कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए  घर-घर अभियान शुरू

एडीजी ने बदमाशों के दुस्साहस मामले में सीओ समेत आठ कर्मियों के शहीद होने की पुष्टि की है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक, बदमाशों की फायरिंग में सीओ बिल्हौर देवेंद्र मिश्रा, शिवराजपुर थानाध्यक्ष महेश कुमार, बिठूर थाना के मंधना चौकी इंचार्ज अनूप सिंह, शिवराजपुर थाने में तैनात एसआई नीबू लाल व कांस्टेबल सुल्तान व तीन अन्य सिपाही समेत आठ कर्मी शहीद हो गए। जबकि चार पुलिस कर्मी घायल भी हैं। उधर, पुलिस पर बदमाशों के फायरिंग में कई कर्मियों के घायल होने की जानकारी पर एडीजी जोन जय नारायण सिंह, आईजी रेंज मोहित अग्रवाल, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दिनेश कुमार प्रभु, पुलिस अधीक्षक पश्चिम डॉ. अनिल कुमार सहित कई थानों के फोर्स मौके पर पहुच गए। खबर लिखे जाने तक लगातार अपराधियों द्वारा गोली चलाने के कारण कई पुलिस कर्मियों को को अभी भी गांव विकरू से नहीं निकाला जा सका है मौके पर पहुचे आलाधिकारियों ने तेज तर्रार पुलिस कर्मियों के साथ गांव की घेराबंदी कर लिया है। इस बीच से बाहर निकल अभी भी पुलिस और अपराधियों के बीच मुठभेड़ जारी है और बदमाश छुप छुप कर फायरिंग कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें : गरीब कल्याण अभियान से आत्मनिर्भर बनने के लिए बेच दिया दुकान, छोड़ दिया काम

इधर, पुलिस मुठभेड़ में कई पुलिस कर्मियों के गोली लगने और शहीद हो जाने की सूचना मिलने की जानकारी पर जिलाधिकारी डॉ ब्रह्मदेव राम तिवारी भी देर रात रीजेंसी अस्पताल पहुच गए और डॉक्टरों से उपचार को लेकर बातचीत करते हुए सभी कर्मियों का हालचाल जाना। उन्होंने बदमाशों की इस कायराना हरकत की निंदा की और शहीद पुलिस कर्मियों की शहादत को सलाम किया। कहा बदमाशों को उनके अंजाम तक पहुचाया जाएगा। छतों से बदमाशों ने पुलिस पर बरसाई गोलियां बता दें कि विकास दुबे बेहद कुख्यात किस्म का अपराधी है। उसने थाने में घुसकर राज्यमंत्री और पुलिस कर्मी सहित कई लोगों की हत्या की वारदात को अंजाम दिया है। पुलिस पर गोलियां बरसाने के बाद आरोपी साथियों समेत फरार हो गए हैं। पुलिस बदमाशों की तलाश में काम्बिंग कर रही है।