बाँदा : कोरोना पीड़ित इस पुलिस वाली से छेड़खानी भारी पड़ गई इन छद्म डॉक्टरों को

राजकीय मेडिकल कालेज में कोरोना संक्रमित महिला कांस्टेबिल से वार्डब्वाय व फार्मेसिस्ट द्वारा छेड़खानी का मामला प्रकाश में आया है। इस मामले में कालेज के प्रधानाचार्य डॉ. मुकेश यादव ने जांच के आदेश दिए हैं।

बाँदा : कोरोना पीड़ित इस पुलिस वाली से छेड़खानी भारी पड़ गई इन छद्म डॉक्टरों को

राजकीय मेडिकल कालेज में कोरोना संक्रमित महिला कांस्टेबिल से वार्डब्वाय व फार्मेसिस्ट द्वारा छेड़खानी का मामला प्रकाश में आया है। इस मामले में कालेज के प्रधानाचार्य डॉ. मुकेश यादव ने जांच के आदेश दिए हैं।

Government Medical College Banda

संक्रमित महिला सिपाही जिस वार्ड में भर्ती थी, वहां कोई दूसरा मरीज नहीं था। इस बात का फायदा उठाते हुए फार्मेसिस्ट व वार्डब्वाय ने महिला सिपाही के साथ छेड़खानी की। इस पर महिला सिपाही ने विरोध किया। इसका किसी ने वीडियो बना लिया। वह वीडियो बाद में वायरल कर दिया गया। जिससे स्वास्थ्य विभाग में हड़कम्प मच गया।

यह भी पढ़ें : योगी सरकार ने कोरोना मरीजों के लिए आइवरमेक्टिन टेबलेट को दी मंजूरी

दोषी वार्डब्वाय व फार्मेसिस्ट ने महिला सिपाही से हाथ जोड़कर व कान पकड़कर माफी मांगी। जिन्हें मुर्गा भी बनाया गया। इसके बाद उन्होंने दण्डवत् होकर भी माफी मांगी।

यह भी पढ़ें : राष्ट्रीय शिक्षा नीति से तैयार होगी 21वीं सदी के नए भारत की नींव : मोदी

इस बारे में प्रधानाचार्य से बात की गई तो उन्होंने कहा कि इस आशय की कोई लिखित शिकायत मुझे नहीं मिली। बिना शिकायत के कोई कार्यवाही वैहृसे हो सकती है। एक मीडिया कर्मी द्वारा दिए गए वीडियो के आधार पर जांच के आदेश दिए गए हैं। उन्होंने यह भी बताया कि जिन स्वास्थ्यकर्मियों के नाम इस प्रकरण में आए हैं, वे आउट सोर्सिंग कर्मचारी हैं। जिस समिति को इस प्रकरण की जांच सौंपी गई है, उससे सात दिन के अन्दर रिपोर्ट देने को कहा गया है।