सावधान बाँदा: अभी अभी एक ही मोहल्ले में 10 कोरोना पाॅजिटिव मिले

बाँदा के बाजार में अभी भी भारी लापरवाही बरती जा रही है। आगामी त्यौहारों को देखते हुए हर घर से लोग बाजार में खरीदारी करने के लिए निकल रहे हैं, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन भी नहीं हो रहा तो वहीं बिना मास्क के लोग बाजार में टहल रहे हैं।

सावधान बाँदा: अभी अभी एक ही मोहल्ले में 10 कोरोना पाॅजिटिव मिले

बाँदा में पिछले दिनों एक वरिष्ठ पत्रकार और एक ही परिवार के दो लोगों की कोरोना से हुई मृत्यु से बाँदावासी दहशत में हैं। बावजूद इसके बाजार अभी भी गुलजार हैं, लोग खरीदारी कर रहे हैं। भीड़ इतनी है कि एक आदमी दूसरे को आसानी से छू रहा है। यानि सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां तो उड़ रही हैं फिर भी आदमी समझने को तैयार नहीं।

अभी अभी आई एक रिपोर्ट के अनुसार शहर के गायत्री नगर मोहल्ले से कुल 10 लोग कोरोना पाॅजिटिव पाये गये हैं। जिनमें से 7 पुरूष और 3 महिलायें हैं। 4 लोगों को छोड़ दें तो बाकी के 7 लोग 50 से 60 वर्ष की आयु के हैं। इसमें 26 वर्ष का एक युवक भी शामिल है।

आपको बता दें कि आज ही सुबह 2 लोगों की कोरोना रिपोर्ट पाॅजिटिव आई थी। एक इन्दिरा नगर से युवक था और दूसरा तिंदवारी का युवक था। इस प्रकार आज कुल 12 लोगों की रिपोर्ट पाॅजिटिव मिलने से बाँदा में सनसनी है। 

उधर दूसरी ओर बाँदा के बाजार में अभी भी भारी लापरवाही बरती जा रही है। आगामी त्यौहारों को देखते हुए हर घर से लोग बाजार में खरीदारी करने के लिए निकल रहे हैं, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन भी नहीं हो रहा तो वहीं बिना मास्क के लोग बाजार में टहल रहे हैं। हालांकि पुलिस प्रशासन लगातार एनाउंस कर लोगों से अपील कर रहा है फिर भी लोग इस कोरोना की गंभीरता को दरकिनार करते हुए मनमर्जी से टहल रहे हैं। 

ऐसे में बाँदा एक बार फिर से कोरोना का बड़ा हाॅटस्पाॅट बनता नजर आ रहा है। आज ही शहर के बाबूलाल चैराहा निवासी एक अधिवक्ता की कोरोना से मौत की खबर पूरे शहर में आग की तरह फैली। उनके ही छोटे भाई की अभी दो दिन पहले ही कानपुर में किडनी के इलाज के दौरान मौत हो गयी थी, हालांकि बताया जा रहा है कि उनकी लास्ट रिपोर्ट निगेटिव आई थी। वहीं दो दिन पहले शहर के एक वरिष्ठ पत्रकार की भी कोरोना से मौत हो गयी है। उनके परिवार में भी कुछ लोगों की रिपोर्ट पाॅजिटिव आई है।

इस तरह से देखा जाये तो कोरोना अब अपने व्यापक रूप में आता जा रहा है। धीरे-धीरे ही सही पर कोरोना का यह भयावह रूप बाँदा के लोगों के बीच कहर बनकर टूटता जा रहा है। अब लोगों को इससे सावधान रहने की जरूरत है। मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग के साथ बेवजह घर से न निकलना ही फिलहाल कोरोना का इलाज भी है।