कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए  घर-घर अभियान शुरू

मेरठ जिले में लगातार बढ़ रहे कोरोना के मामलों को देखते हुए संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए गुरुवार से घर-घर चेकिंग अभियान शुरू हुआ। सीएम योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर युद्ध स्तर पर अभियान छेड़ दिया गया है। जिसके तहत दो से 12 जुलाई तक स्वास्थ्य विभाग की 1400 टीमें जिले में घर-घर जाकर कोरोना और गंभीर बीमारियों से पीड़ित मरीजों को चिन्हित करेंगी। टीम में शामिल स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी मरीज को तत्काल उसकी बीमारी के हिसाब से चिन्हित करते हुए अस्पताल, क्वॉरेंटाइन सेंटर या आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराएंगे।

कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए  घर-घर अभियान शुरू
Corona transition chain

मेरठ, (हि. स.)

मेरठ जिले के नोडल अधिकारी पी गुरुप्रसाद की मौजूदगी में गुरुवार को नेहरू नगर गली नंबर एक से इस अभियान की शुरुआत की गई। इस दौरान जिलाधिकारी अनिल धींगरा और सीएमओ डॉक्टर राजकुमार भी मौजूद रहे। नोडल अधिकारी पी गुरुप्रसाद ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग की यह टीमें एंटीजन किट और अन्य सभी संसाधनों से लैस रहेंगी। 12 जुलाई तक टीम के सदस्य जिले के शहरी और ग्रामीण क्षेत्र के एक-एक घर का सर्वे करेंगे। हर टीम को रोज कम से कम 50 घरों का सर्वे करना अनिवार्य है। जिसके तहत टीम के सदस्य घर में रहने वाले सभी सदस्यों की सूची बनाएंगे।

यह भी पढ़ें : शहर में मिला कोरोना पॉजिटिव मरीज, सरदारपुरा मोहल्ला सील

इसी के साथ थर्मल स्कैनर से सबके स्वास्थ्य की जांच भी करेंगे। इस दौरान संदिग्ध मरीजों का एंटीजन किट से तत्काल टेस्ट किया जाएगा और यदि रिपोर्ट पॉजिटिव आती है तो उसे तुरंत आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया जाएगा। इसी के साथ गंभीर बीमारी से पीड़ित मरीजों की जानकारी जुटाते हुए आवश्यकतानुसार उन्हें हॉस्पिटल में भर्ती भी कराया जाएगा। जिससे संक्रमण के चलते बढ़ती मृत्यु दर को घटाया जा सके।

नोडल अधिकारी पी गुरुप्रसाद ने दावा किया कि पिछले 10 दिनों में कोरोना के केस भले ही बढ़े हों। मगर मृत्यु दर में काफी कमी आई है। केस बढ़ने का कारण भी यह है, क्योंकि पिछले कुछ दिनों में टेस्टिंग की संख्या भी काफी बढ़ गई है। जिलाधिकारी अनिल धींगरा और सीएमओ डॉक्टर राजकुमार ने स्वास्थ्य विभाग द्वारा चलाए जा रहे अभियान में जिले की जनता से सहयोग की अपील की। इसी के साथ जनता से संक्रमण को ना छुपाने और तत्काल टेस्ट कराने की भी सलाह दी।

यह भी पढ़ें : उत्तर प्रदेश में कोरोना की प्रतिदिन जांच की संख्या पहली बार 26 हजार के पार