"स्वयं के पराक्रम का उल्लेख करना शर्मिंदगी में डालता है"

अयोध्या में पांच अगस्त को भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए भूमिपूजन होगा, जिसमें मप्र की पूर्व सीएम एवं भाजपा नेत्री उमा भारती भी शामिल होंगी...

"स्वयं के पराक्रम का उल्लेख करना शर्मिंदगी में डालता है"
"स्वयं के पराक्रम का उल्लेख करना शर्मिंदगी में डालता है"

भोपाल

इस संबंध में उन्होंने रविवार को सोशल मीडिया के माध्यम जानकारी देते हुए कहा है कि पांच सौ साल तक चले अयोध्या आंदोलन में लाखों लोगों ने अपने प्राणों की आहुति दी है, इसिलए स्वयं के पराक्रम का उल्लेख करना मुझे शर्मिंदगी में डालता है।

उमा भारती ने सिलसिलेवार ट्वीट करते हुए कहा कि - कल जब मुझे चार अगस्त को अयोध्याजी पहुंचकर 6 तारीख तक वहां रहने का निर्देश राम जन्मभूमि न्यास की ओर से मिला तो मैंने आप सबसे इसकी जानकारी शेयर की। जानकारी देना इसलिए जरूरी लगा, क्योंकि आप सब मुझसे निरंतर इस संबंध में प्रश्न कर रहे थे। उन्होंने आगे लिखा ‘जानकारी व्यापक होने के बाद मीडिया जगत के मेरे सभी भाई-बहन इंटरव्यू या बाइट लेने का आग्रह कर रहे हैं, इस पर मेरा आप सबसे निवेदन है कि मेरे लिए परम सौभाग्य की बात है कि मैंने अयोध्या अभियान में भागीदारी की है।

यह भी पढ़ें : प्रभु श्रीराम की दूसरी अयोध्या 'ओरछाधाम' में 'योगेश्वर श्रीकृष्ण' करने आते थे 'रासलीला'

उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा है कि - अब मेरे जीवनकाल में ही मंदिर का निर्माण शुरू हो गया। पूरे भारतवासियों की तरफ से हमारे प्रधानमंत्रीजी इसका शुभारंभ करेंगे। यह गर्व और आनंद का विषय है। किंतु अयोध्या अभियान में स्वयं के किसी पराक्रम का उल्लेख करना मुझे शर्मिंदगी में डालता है। क्योंकि 500 साल तक चले इस अभियान में लाखों लोगों के प्राणों की आहुति हुई है। पहले युद्ध हुए, फिर संघर्ष हुए, 1984 से अभियान चला तब भी इस दरम्यान बहुत कारसेवक शहीद हुए, कई परिवार नष्ट हो गए, कई जिंदगानियां खप गईं, उन्हीं सबका परिणाम है- आंदोलन की गति कम नहीं हो पाई। इसलिए हमें उनका यश और पराक्रम याद रखना है। हम उनके सामने कहीं नहीं ठहरते, हम तो जिंदा रह गए और हमारे जीवन की गति आगे चली। इस अभियान के लाभ या हानि पार करके अब हम उस दिन अयोध्या में होंगे, यह मेरे जीवन का एक ऐसा क्षण होगा। इसकी तुलना हजारों जिंदगानियों से भी नहीं की जा सकती।

यह भी पढ़ें : श्रीराम जन्मभूमि के लिए बलिदान देने वालों के सपने पांच अगस्त को होंगे साकार

उमा भारती ने अगले ट्वीट में कहा कि जुलाई और अगस्त में कोरोना महामारी विकराल रूप धारण करती जा रही है, ऐसी स्थिति में हम भले ही अयोध्या में हों, किंतु शिलान्यास स्थल पर कौन लोग मौजूद होंगे- यह अंतिम घड़ी तक स्पष्ट नहीं हो सकता। जैसे नदियां समुद्र में समा जाती हैं हम सब नरेंद्रमोदीजी में समा गए हैं। उनकी शिलान्यास स्थल पर उपस्थिति ही हम सबकी उपस्थिति है। हम प्रार्थना करें कि प्रभु श्रीराम की जय हो, क्योंकि वही इस अभियान के नायक हैं। हम सब यह कामना करें कि अब हमारे देश में राम राज्य की भी शुरुआत हो, जहां सबको मानवाधिकार तथा सम्मान के साथ जीने का अधिकार मिले। मेरे जितने भी लोग परिचित हैं, वह जहां हैं यदि मेरे इस ट्वीट को पढ़ रहे हैं तो उन सब से मेरी अपील है कि सब अपने घर से ही इस आनंद के पर्व में भागीदारी करें।

उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा है कि - मैं भारत के हिंदुओं के अलावा सभी धर्मावलंबियों से अनुरोध करूंगी कि यह सबके लिए ही शांति और आनंद का क्षण है। यही भारत में एकात्मता की शुरुआत होगी। “एकं सद्विप्रा बहुधा वदन्ति” अर्थात्, सत्य एक है, जिसे विद्वान विभिन्न नामों से बुलाते हैं। इसलिए हरेक की भावना का सम्मान और प्रतिष्ठा हो, यही हमारा संविधान कहता है।

हिन्दुस्थान समाचार