राम मंदिर : अगस्त में अयोध्या आ सकते हैं प्रधानमंत्री मोदी

राम जन्म भूमि पर भव्य मंदिर निर्माण के भूमि पूजन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास के पत्र को गंभीरता से लिया है। तारीख तय होने के बाद प्रधानमंत्री मोदी अगस्त माह की तीन या पांच तारीख को अयोध्या आ सकते हैं...

राम मंदिर : अगस्त में अयोध्या आ सकते हैं प्रधानमंत्री मोदी
Prime Minister Modi can visit Ayodhya in August

अयोध्या

ट्रस्ट अध्यक्ष ने पत्र में वर्चुअल या वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से नहीं बल्कि प्रधानमंत्री मोदी से स्वयं अयोध्या आकर राममंदिर निर्माण की नींव रखे जाने का अनुरोध किया था। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के आठवें माह में अब मंदिर निर्माण परिसर में समतलीकरण का कम भी पूरा हो चुका है। मंदिर निर्माण की विस्तृत योजना श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महामंत्री चम्पत राय अयोध्या में 18 जुलाई को होने वाली बैठक मेंं ट्रस्ट के सभी पदाधिकारियों के सन्मुख रखेंगे।

ट्रस्ट सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बैठक में ही भूमि पूजन कार्यक्रम के लिए शीर्ष लोगों को आमंत्रण भेजने की योजना बनेगी। भूमि पूजन में श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के सभी ट्रस्टी, संघ प्रमुख मोहन भागवत, देश के शीर्ष संत-धर्माचार्य समेत, भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा, गृहमंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल समेत तमाम शीर्ष लोगों को आमंत्रित किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें : लॉन्च हुई दुनिया की सबसे सस्ती कोरोना वायरस टेस्टिंग किट

सरकार की मंशा के अनुरूप कोरोना के मद्देनजर भूमिपूजन कार्य में कोई भीड़ या समारोह आयोजित नहीं होगा। इसकी विस्तृत रूपरेखा के साथ घोषणा ट्रस्ट की 18 जुलाई की बैठक में हो सकती है। श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास के अनुुुसार 3 अगस्त या सावन मास के समापन के दिन पूर्णिमा की शुभ घड़ी में 5 अगस्त को कार्यक्रम तय करने पर विचार चल रहा है।

उल्लेखनीय है कि वर्ष 1989 में राम मंदिर का शिलान्यास हो चुका है। अब निर्माण की प्रतीकात्मक शुरुआत सिर्फ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथोंं होनी है। इस दौरान कुछ केंद्रीय मंत्री इस कार्यक्रम में शामिल होंगे। राम जन्म भूमि परिसर में 11 मई से ही समतलीकरण का कार्य चल रहा है। इस दौरान खुदाई में पुरावशेष भी मिले हैं।

यह भी पढ़ें : सावधान! होने वाली है इन जिलों में भारी बारिश

(हिन्दुस्थान समाचार)