नाबालिग लड़कियों से यौन शोषण की खबर को प्रशासन ने फर्जी बताया

एक न्यूज़ चैनल द्वारा जनपद चित्रकूट के खदानों में नाबालिग लड़कियों के साथ यौन शोषण की खबर दिखाए जाने पर प्रशासन हरकत में आया और तुरंत मौके पर जाकर पीड़ित लड़कियों से बातचीत की। इसमें लड़कियों ने अभद्रता या यौन उत्पीड़न की घटना से इनकार किया है..

नाबालिग लड़कियों से यौन शोषण की खबर को प्रशासन ने फर्जी बताया
DM Chitrakoot

जिलाधिकारी द्वारा बताया गया कि एक न्यूज़ चैनल द्वारा नाबालिग लड़कियों के साथ यौन शोषण की खबर दिखाए जाने पर संबंधित खबर में दी गई वीडियो फुटेज की जांच की गई। वीडियो फोटोज के आधार पर थाना भरतकूप क्षेत्र के ग्राम गोंडा और आसपास के गांव में रात में ही घटना के विषय में जानकारी प्राप्त की गई।

जिसके आधार पर संबंधित परिवार के विषय में लोगों को अवगत कराया गया तथा वीडियो फोटोज के आधार पर आसपास के लोगों द्वारा संबंधित परिवार की पहचान कराई गई। संबंधित परिवार से आयुक्त चित्रकूट धाम मंडल डीआईजी चित्रकूट धाम पर क्षेत्र व पुलिस अधीक्षक चित्रकूट ने स्वयं बच्चों और उनके परिजनों से बातचीत की।

यह भी पढ़ें : मप्र विधानसभा में 20 से शुरू होगा मानसून सत्र, सीट की व्यवस्था में होगा बदलाव

परिजनों ने स्वीकार किया कि यह वीडियो हमारा है लेकिन जो बातें इसमें कहीं गई है वह सही नहीं है। जो दीदी आई थी उनकी बोली भाषा हम लोग नहीं समझ पाए और मुझे पता नहीं कि यह वीडियो कैसे  बनाया है।इस प्रकार  बच्चियों तथा उनके परिवार ने उनके साथ किसी प्रकार की कोई भी अभद्रता या यौन उत्पीड़न की घटना से इनकार किया है।

जिला अधिकारी ने बताया कि उक्त प्रकरण की जांच के लिए जिला मजिस्ट्रेट की अध्यक्षता में मजिस्ट्रेट जांच के आदेश देते हुए एक कमेटी भी बनाई है जिसमें उप जिला मजिस्ट्रेट कर्वी को अध्यक्ष बनाया गया है जबकि क्षेत्र अधिकारी पुलिस नगर, खान अधिकारी चित्रकूट, जिला प्रोबेशन अधिकारी चित्रकूट, जिला समाज कल्याण अधिकारी व परियोजना अधिकारी डूडाको सदस्य बनाया गया है।

इस समिति से आज शाम तक जांच कर रिपोर्ट देने को कहा गया। उन्होंने यह भी बताया कि घटना की विस्तृत जानकारी के विषय में उक्त न्यूज़ चैनल की संवाददाता श्रीमती मौसमी सिंह से दूरभाष पर अनुरोध किया गया परंतु उन्होंने अभी तक घटना की विस्तृत जानकारी प्रशासन को उपलब्ध नहीं कराई तथा उक्त विशेष रिपोर्ट के प्रसारण के पूर्व स्थानीय प्रशासन का पक्ष भी नहीं लिया गया जो खेद जनक है।

यह भी पढ़ें : कानपुर का बिकरु कांड : यूपी एसटीएफ ने हमीरपुर में मुठभेड़ कर अमर दुबे को किया ढेर