बुन्देलखण्ड के मंदिर दीपों से जगमगायेगें, और राम नाम से होंगे गुंजायमान

मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम की जन्म स्थली अयोध्या में जब श्री राम जन्म मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन होगा। उस समय बुन्देलखण्ड के मंदिरों में शंख घड़ियाल बजेंगे और राम नाम के भजन कीर्तन होंगे और शाम को सभी मंदिर दीपों से जगमगाएंगे..

बुन्देलखण्ड के मंदिर दीपों से जगमगायेगें, और राम नाम से होंगे गुंजायमान
बुन्देलखण्ड के मंदिर दीपों से जगमगायेगें

अयोध्या में भगवान श्री राम के मंदिर निर्माण को लेकर हर तरफ उत्साह व खुशियां नजर आ रही हैं। इसलिए जब मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन का कार्यक्रम होगा। उस समय लोग मंदिरों में शंख वह घड़ियाल बजाएंगे और फिर भजन कीर्तन का सिलसिला शुरू होगा।

यह भी पढ़ें : अगर आप भी अयोध्या की ओर जा रहे हैं, तो इन रास्तों से जायें

झांसी में 184 मंदिरों में विशेष सजावट की जा रही है। जिनमें भजन कीर्तन के कार्यक्रम होंगे शाम को विद्युत सजावट से जगमगा उठेंगे। शहर के सभी चौराहों  में दीप जलाए जाएंगे, साथ ही घरों में भी दीप जलाकर उत्सव मनाया जाएगा। यह जानकारी राष्ट्रवाद विश्व हिंदू परिषद के क्षेत्रीय अध्यक्ष अंचल अर्जरिया ने दी।

इसी तरह बांदा जनपद में भी भूमि पूजन के दौरान खुशियों का माहौल रहेगा। यहां सदर विधायक प्रकाश द्विवेदी द्वारा आसपास के सभी गांवों में रामायण का पाठ और भजन कीर्तन कराने का निर्णय लिया गया है साथ ही इस खुशी के माहौल में प्रसाद के रूप में लड्डुओं का वितरण भी कराया जाएगा।

इसी तरह मठ मंदिर प्रमुख विश्व हिंदू परिषद बांदा पंडित शांतनु चतुर्वेदी ने बताया कि सभी मठ और मंदिरों में दीप जलाए जाएंगे इसके लिए कार्यकर्ताओं में भारी उत्साह है। सभी कार्यकर्ता दीपोत्सव को सफल बनाने की तैयारी में जुटे हुए हैं। 

यह भी पढ़ें : श्रीराम जन्मभूमि के लिए बलिदान देने वालों के सपने पांच अगस्त को होंगे साकार

वही विश्व हिंदू महासंघ के अध्यक्ष शिव विलास शर्मा ने कहा कि अयोध्या में मंदिर निर्माण की ख़ुशी में हमारा छह दिवसीय कार्यक्रम चल रहा है। आज अयोध्या में कार सेवा के दौरान अपने प्राणों का बलिदान देने वाले कार्यकर्ताओं को श्रद्धांजलि दी गई और इस आंदोलन के संस्थापक राम जन्मभूमि न्यास के महंत अवैद्यनाथ को भी श्रद्धांजलि दी गयी।

उन्होंने  बताया कि कल गांवों में दीपोत्सव होगा और दोपहर में 12 बजे के बाद मंदिरों में शंख घड़ियाल बजाए जाएंगे। इसी तरह बुन्देलखण्ड के अन्य जनपदों में भी मंदिर निर्माण की खुशी में विभिन्न धार्मिक कार्यक्रम आयोजित किए गए हैं, साथ ही सभी प्रमुख स्थान पर दीप जलाकर खुशियां मनाई जाएगी। चित्रकूट में भी इस उत्सव को  यादगार बनाने के लिए मंदिरों में दीपोत्सव मनाने का निर्णय लिया गया।

यह भी पढ़ें : प्रभु श्रीराम की दूसरी अयोध्या 'ओरछाधाम' में 'योगेश्वर श्रीकृष्ण' करने आते थे 'रासलीला'

हमीरपुर के सदर विधायक युवराज सिंह ने कहा कि मंदिर निर्माण के भूमि पूजन के अवसर पर जनपद में घर घर दीप जलाने की तैयारी चल रही है।इसके अलावा मंदिरों में भी विभिन्न धार्मिक अनुष्ठान किए जाएंगे।