पचास साल बाद पहली बार चीन सीमा पर हिंसक झड़प, 3 भारतीय जवान शहीद

दोनों देशों के आर्मी अफसरों के फैसले के बाद जब चीनी सेना ने पीछे जाने से इनकार किया तो हिंसक झड़प हुई। इस झड़प में भारत के एक कर्नल रैंक के अधिकारी और दो जवान शहीद हुए हैं।

पचास साल बाद पहली बार चीन सीमा पर हिंसक झड़प, 3 भारतीय जवान शहीद


1962 में भारत और चीन का युद्ध हुआ था। इस युद्ध के बाद यानी 70 के दशक के बाद से एलएसी पर तनाव की खबरें आती थी, लेकिन कोई भारतीय सेना का जवान शहीद नहीं हुआ था। आज करीब 50 साल बाद एलएसी पर भारत और चीनी सैनिक के बीच हिंसक झड़प हुई, जिसमें भारतीय सेना के अधिकारी और दो जवान शहीद हो गए हैं।

भारत और चीन के बीच लाईन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर तनाव बढ़ गया है। गलवान घाटी पर सोमवार रात को भारतीय सैनिक और चीनी सैनिक के बीच हिंसक झड़प हुई। इस झड़प में भारतीय सेना के एक अधिकारी और दो जवान शहीद हो गए हैं। 70 के दशक के बाद पहली बार एलएसी पर भारतीय जवानों की शहादत हुई है।

गौरतलब है कि पिछले कई दिनों से भारत-चीन सीमा पर विवाद जारी है। चीन लगातार कह रहा है कि वह बातचीत के जरिए मामले को सुलझाना चाहता है, लेकिन वह पीछे हटने से इनकार कर रहा है। भारत ने साफ कर दिया था कि चीन के सिपाहियों को पीछे हटना ही होगा। एलएसी पर बदली परिस्थिति को भारत स्वीकार नहीं करेगा।