विकास दुबे की गिरफ्तारी पर पूर्व मंत्री ने उठाए सवाल, "ये तो शरण और सरेंडर का खेल है"

मध्य प्रदेश इस तरह के गैंगस्टरों के लिए चारागाह बन गया है। अपराध करके अपराधी शरण लेने के लिए मप्र आ जाते हैं। कानून व्यवस्था प्रदेश में बिल्कुल धवस्त हो गई है।

विकास दुबे की गिरफ्तारी पर पूर्व मंत्री ने उठाए सवाल, "ये तो शरण और सरेंडर का खेल है"

भोपाल (हि.स.)
उत्तर प्रदेश के मोस्ट वांटेड गैंगस्टर विकास दुबे की उज्जैन महाकाल मंदिर से गिरफ्तारी के बाद अब राजनीतिक बयानबाजी शुरू हो गई है। एक तरफ जहां भाजपा सरकार अपनी पीठ ठोंकने में लगी है तो वहीं दूसरी ओर कांग्रेस ने आरोपित की गिरफ्तारी पर सवाल उठाते हुए गंभीर आरोप लगाए है। इसी क्रम में पूर्व मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस विधायक पीसी शर्मा ने यूपी के कुख्यात गैंगस्टर विकास दुबे की गिरफ्तारी पर बड़ा बयान दिया है। उनके मुताबिक ये शरण और सरेंडर का खेल है।
 
पीसी शर्मा ने गुरुवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि ये तो महाकाल का प्रभाव था, जो इतना बड़ा आरोपी उज्जैन से गिरफ्तार हुआ है। कल ही खबर आ रही थी कि वह झांसी बार्डर से मध्य प्रदेश की सीमा में घुसा है। मध्य प्रदेश इस तरह के गैंगस्टरों के लिए चारागाह बन गया है। अपराध करके अपराधी शरण लेने के लिए मप्र आ जाते हैं। कानून व्यवस्था प्रदेश में बिल्कुल धवस्त हो गई है।
 
गृह मंत्री के बयान पर पलटवार करते हुए पीसी शर्मा ने कहा कि मध्यप्रदेश में अपराधियों को तो पुलिस पकड़ नहीं पाती, ये खेल शरण और सरेंडर का है जिसने शरण दी होगी उसने ही सरेंडर कराया है। इसके अलावा भाजपा पर गंभीर आरोप लगाते हुए पीसी शर्मा ने कहा कि विकास दुबे के संबंध मप्र और उत्तर प्रदेश के भाजपा नेताओं से रहे हैं। इसलिए वो मप्र आया था। विकास ने इतने सालों में जितने अपराध किए हैं। इन सबकी जांच हो कि कौन-कौन इसमें शामिल रहा है।