उत्तर प्रदेश में 25 घरेलू हवाई अड्डे, औद्योगिकीकरण से खुलेंगे रोजगार के द्वार

मुख्यमंत्री ने इन्वेस्ट यूपी की उच्चस्तरीय प्राधिकृत समिति की बैठक में उद्यमियों एवं निवेशकों के साथ संवाद के दौरान यह बात कही..

उत्तर प्रदेश में 25 घरेलू हवाई अड्डे, औद्योगिकीकरण से खुलेंगे रोजगार के द्वार

लखनऊ,

  • इन्वेस्ट यूपी की उच्चस्तरीय प्राधिकृत समिति की बैठक में मुख्यमंत्री ने उद्यमियों-निवेशकों से किया संवाद
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि वर्तमान में हम सदी की सबसे बड़ी चुनौतीपूर्ण स्थिति में खड़े हैं। पूरी दुनिया में लोगों के सामने ढेर सारी चुनौतियां हैं। विगत छह माह में जो चीजें दुनिया ने देखी हैं, उन स्थितियों में उत्तर प्रदेश जैसे राज्य में हम इस संवाद के लिए साथ बैठे हैं। उन्होंने कहा कि मैं प्रारम्भ से ही इस बात का पक्षधर रहा हूं कि संवाद के माध्यम से हमें समस्याओं के समाधान का रास्ता निकालना चाहिए और पिक ऐंड चूज की बजाय पॉलिसी बनाकर एक समय सीमा में इन समस्याओं का समाधान करना चाहिए।
 
कोरोना के कारण उपजी चिंताओं को लेकर संवाद
मुख्यमंत्री ने कहा कि आज का संवाद वैश्विक महामारी कोरोना कालखंड में उद्यमियों और निवेशकों के मन में उपजी चिंताएं दूर करने व उन्हें आश्वस्त करने के लिए है कि उत्तर प्रदेश पिछले तीन-साढ़े तीन वर्षों में देश में निवेश का सबसे अच्छा गंतव्य बना है। वर्तमान में उत्तर प्रदेश के परसेप्शन के बारे में देश और दुनिया में बहुत स्पष्ट संदेश है। जिन्होंने उत्तर प्रदेश में निवेश किया है या निवेश करने के इच्छुक हैं, वह इस वातावरण से परिचित भी हैं।
  • निवेश के साथ ही साथ बड़े पैमाने पर रोजगार जुटाने पर मंथन
 
उत्तर प्रदेश देश की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला राज्य 
वर्तमान में उत्तर प्रदेश, देश की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला राज्य है। वर्तमान में उप्र देश के कुल सकल घरेलू उत्पाद में 8 प्रतिशत का योगदान भी कर रहा है। देश की सबसे अधिक 24 करोड़ की आबादी उत्तर प्रदेश में निवास करती है। हमारा प्रदेश, देश का सबसे बड़ा उपभोक्ता बाजार है। यह एक युवा राज्य है। हमारी लगभग 60 प्रतिशत आबादी कामकाजी और ऊर्जावान है, इसलिए इस बड़ी आबादी को प्रदेश के औद्योगिक विकास के साथ ही प्रदेश के समग्र विकास की अनेक सम्भावनाओं के साथ जोड़कर देख सकते हैं।

 सिंगल विंडो सिस्टम बना ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में परफारमेंस का आधार
मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश के उद्यमियों और निवेशकों के साथ शासन, प्रशासन और हमारी फील्ड यूनिट ने जो टीमवर्क का प्रयास प्रारम्भ किया, वह इस दिशा में सफलता के नए आयाम को छूता दिखाई दिया। इन सुधारों में व्यापार से सम्बंधी जो 12 रेगुलेटरी क्षेत्र थे वह भी सम्मिलित थे, जिनमें सूचना की सुगमता, सिंगल विंडो सिस्टम, श्रम कानूनों में सुधार और पर्यावरण से सम्बंधित स्वीकृतियों को प्रदान करने की जो प्रक्रिया थी उसमें हमने व्यापक सुधार किए हैं। 
राज्य का निवेश मित्र पोर्टल भारत के सबसे बड़े डिजिटल सिंगल विंडो क्लियरेंस प्लेटफॉर्म में से एक है। इस पोर्टल के माध्यम से ही हमने 98 फीसदी उच्च समाधान दर और 94 प्रतिशत स्वीकृतियां जारी की हैं। 
 
औद्योगिकीकरण के एक नए युग को आगे ले जाने के लिए सरकार तैयार
उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के 'आत्मनिर्भर भारत' बनाने के सपने को वास्तविकता में परिवर्तित करने के लिए उत्तर प्रदेश निरंतर प्रयासरत है। हम उत्तर प्रदेश में औद्योगिकीकरण के एक नए युग को आगे ले जाने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। हमारा यह प्रयास न सिर्फ उत्तर प्रदेश के औद्योगीकरण और विकास की सम्भावनाओं को आगे बढ़ाएगा बल्कि व्यापक पैमाने पर युवाओं हेतु रोजगार की सम्भावनाओं को भी आगे बढ़ाएगा।
 
रोजगार को लेकर व्यापक कार्ययोजना की गई तैयार
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना कालखंड में 40 लाख से अधिक प्रवासी कामगार और श्रमिक प्रदेश में आए। स्किल मैपिंग कर उन्हें रोजगार देने का भी कार्य किया गया। आने वाले समय में हमारी योजना, इस अपार ऊर्जा के स्रोत को अपने यहां रोककर प्रदेश के विकास के साथ उसे जोड़ने की है। इस दिशा में भी हमने एक व्यापक कार्ययोजना तैयार की है। राज्य में मैन्युफैक्चरिंग केंद्रों की सुविधा के लिए विश्वस्तरीय बुनियादी ढांचे और त्वरित कनेक्टिविटी के विकास को भी हमने सुनिश्चित किया है।
 
25 घरेलू हवाई अड्डे विकसित करने की कार्रवाई को तेजी के साथ आगे बढ़ाया
मुख्यमंत्री ने कहा कि एनसीआर रीजन को प्रयागराज, वाराणसी व चित्रकूट के साथ जोड़ने के लिए 600 किमी से भी अधिक लम्बे गंगा एक्सप्रेस-वे के कार्य की प्रक्रिया को भी हमने तेजी के साथ आगे बढ़ाया है। जेवर में बनने वाले प्रदेश के सबसे बड़े जेवर एयरपोर्ट की निर्माण प्रक्रिया गौतमबुद्ध नगर में तेजी के साथ आगे बढ़ रही है। कुशीनगर में भी एक नए अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के निर्माण की कार्रवाई अंतिम चरण में है। क्षेत्रीय कनेक्टिविटी की दृष्टि से प्रदेश में आगरा, हिंडन, कानपुर, बरेली समेत हमने 25 घरेलू हवाई अड्डों को विकसित करने की कार्रवाई को भी तेजी के साथ आगे बढ़ाया है।

What's Your Reaction?

like
1
dislike
0
love
1
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0