इन शर्तों के साथ दुर्गा पूजा और रामलीला को शासन ने दी हरी झण्डी

अगले तीन महीनों में पड़ने वाले विभिन्न त्योहारों को देखते हुए यूपी सरकार ने कोरोना के मद्देनजर दिशा-निर्देश जारी कर दिया है इस बात के सख्त निर्देश दिए गए हैं कि ..

इन शर्तों के साथ दुर्गा पूजा और रामलीला को शासन ने दी हरी झण्डी
दुर्गा पूजा

अगले तीन महीनों में पड़ने वाले विभिन्न त्योहारों को देखते हुए यूपी सरकार ने कोरोना के मद्देनजर दिशा-निर्देश जारी कर दिया है। इस बात के सख्त निर्देश दिए गए हैं कि किसी भी दशा में चैराहों तथा सड़कों पर मूर्तियां व ताजिये न रखे जाएं। मूर्तियों की स्थापना पारंपरिक लेकिन खाली स्थान पर की जाए। उनका आकार छोटा रखा जाए तथा मैदान की क्षमता से अधिक लोग न रहें।  मूर्ति विसर्जन में छोटे वाहनों का प्रयोग करना होगा। इसमें कम से कम व्यक्ति शामिल होंगे ।

यह भी पढ़ें - विजयादशमी : रथ पर सवार होकर रामलीला मैदान जाएंगे सीएम योगी

कोरोना महामारी के बीच यूपी की योगी आद‍ित्‍यनाथ सरकार ने त्योहारों को देखते हुऐ अपनी गाइडलाइंस जारी कर दी है। कोरोना-19 की दूसरी लहर की आशंका को देखते हुए राज्य सरकार ने नवरात्र, दुर्गापूजा, बारावफात, दिवाली के सार्वजनिक कार्यक्रमों पर ज्‍यादा छूट नहीं दी है। किसी भी कार्यक्रम जैसे जयंती, मेला, प्रतिमा स्थापना और विसर्जन, रामलीला, जागरण, प्रदर्शनी, रैली और जुलूस आदि के लिए पुलिस कमिश्नर या डीएम से अनुमति लेनी होगी।

सरकार की ओर से जारी गाइडलाइंस के अनुसार, इस साल सड़कों और चैराहों पर पर मूर्तियों की स्थापना की अनुमति नहीं दी जाएगी, वहीं कंटेंनमेंट जोन में किसी भी कार्यक्रम की अनुमति नहीं होगी। सामाजिक, सांस्कृतिक और धार्मिक कार्यक्रमों के लिए सभी स्थानों पर एक अलग कमरा या क्षेत्र होना चाहिए, जहां किसी व्यक्ति को कोरोना होने का संदेह हो, तो उन्हें एक स्वास्थ्य टीम की ओर से जांच करने तक रखा जाएगा।

13 प्रमुख त्योहारों को लेकर सरकार की तैयारी

यूपी के मुख्य की ओर से जारी गाइडलाइंस में सभी जिला प्रशासन, औिर पुलिस विभाग को निर्देश जारी किए गए हैं कि अक्टूबर से दिसंबर तक कोरोना प्रोटोकॉल का पालन किया जाए। इस दौरान दुर्गा पूजा, दि‍वाली, दशहरा, बारावफात, छठ पूजा और क्रिसमस जैसे त्योहारों को मनाया जाएगा। सरकार ने 17 अक्टूबर से शुरू होने वाले 13 प्रमुख त्योहारों को लेकर विशेष तैयारी की है।

सैनिटाइजर और थर्मल स्कैननिग जरूरी

गाइडलाइंस के अनुसार, आयोजन स्थल पर सैनिटाइजर और थर्मल स्कैन‍िंग जरूर होनी चाह‍िए है। लोगों के बीच सोशल डिस्‍टेंसिंग का पालन कराने के लिए फर्श पर गोल घेरा बनाना होगा। इस दौरान आने वाले के लिए अलग प्रवेश और जाने वालों के लिए अलग रास्‍ता या गेट होना चाहिए। आयोजन के दौरान सभी लोगों को हर समय मास्क पहनना आवश्यक होगा।

निगरानी के लिए सीसीटीवी लगाने पर विचार

सोशल डिस्टेंसिंग व मास्क के मानकों के अनुपालन की निगरानी रखने के लिए सीसीटीवी कैमरा लगाने पर भी विचार करना होगा। कार्यक्रम स्थल पर कोविड -19 से बचने के उपायों से सम्बन्धित पोस्टर्स/ बैनर्स लगाने होंगे और ऑडियो/ विजुअल प्रचार-प्रसार भी करना होगा। थूकने पर सख्ती से प्रतिबंध लगाया जाएगा।

यह भी पढ़ें - महोबिया पान को पुनः देश-विदेश में पहचान दिलाने के लिए किया जाएगा प्रयास : डीएम

डिस्पोजेबल ग्लास और प्लेटों  का इस्तेमाल

 पानी और भोजन यदि कोई हो, डिस्पोजेबल ग्लास और प्लेटों में परोसा जाएगा। दरवाजे के हैंडल, लिफ्ट बटन जैसे संपर्क स्थल और हर रोज साफ किए जाएंगे। इसके अलावा पास के अस्पतालों और स्वास्थ्य सुविधाओं को भी आपात स्थिति के लिए मैप करना होगा।

What's Your Reaction?

like
3
dislike
0
love
2
funny
0
angry
0
sad
0
wow
1