120 वर्षों के बाद भी राठ, महोबा, भिंड वाया जालौन रेल लाइन खटाई में, अब वर्मा जी से आस

भारतीय रेल के मानचित्र पर आने के लिए जालौन बीते 120 वर्षों से बाट जोह रहा है। स्वतंत्रता के 73 वर्षों में भी क्षेत्र की यह मांग भी आंदोलनों..

120 वर्षों के बाद भी राठ, महोबा, भिंड वाया जालौन रेल लाइन खटाई में, अब वर्मा जी से आस
रेल लाइन (railway line)

भारतीय रेल के मानचित्र पर आने के लिए जालौन बीते 120 वर्षों से बाट जोह रहा है। स्वतंत्रता के 73 वर्षों में भी क्षेत्र की यह मांग भी आंदोलनों व आश्वासनों के बाद अधूरी पड़ी हुई है। सांसद के केंद्रीय मंत्री बनने से एक बार उम्मीद जगी है कि उनकी बहु प्रतीक्षित मांग पूरी हो जाए।

यह भी पढ़ें -  भाजपा के सांसद-विधायक जितवाकर बुंदेलखंड वासियाें तुम्हें क्या मिला : अखिलेश यादव

1901 में तैयार हुई कोंच-एट रेलवे लाइन को अंग्रेजी हुकूमत के अधिकारी कोंच से दिबियापुर तक ले जाना चाहते थे जिससे नगर जालौन भी भारतीय रेल के मानचित्र पर आ सके, जिसका उल्लेख 1901 के जालौन गजेटियर में भी किया गया है लेकिन दो विश्व युद्ध व स्वतंत्रता आंदोलन के चलते कोंच की यह रेलवे लाइन आगे नहीं बढ़ पाई तथा जनपद के नाम से जाने वाला नगर अभी भी भारतीय रेल के मानचित्र से गायब है।

नगर को भारतीय रेल के नक्शे पर लाने के भाजपा के पूर्व नगर अध्यक्ष वाचस्पति मिश्रा, श्रवण कुमार श्रीवास्तव, अन्नी मित्तल, केसी पाटकार, योगेंद्र राठौर ने क्षेत्रीय सांसद व केंद्रीय मंत्री भानु प्रताप वर्मा से दिल्ली में भेंट कर जनता की मांग को याद दिलाया। प्रतिनिधिमंडल की मांग पर केंद्रीय मंत्री ने भी आश्वासन दिया है कि उनकी रेलवे लाइन की मांग को पूरा कराने का हर संभव प्रयास किया जाएगा। मंत्री के आश्वासन के बाद उम्मीद जगी है कि क्षेत्र की जनता को रेल सुविधा मिल जाए।

यह भी पढ़ें - बरौनी-ग्वालियर स्पेशल ट्रेन का संचालन शुरू, कई ट्रेनों में लगेंगे अतिरिक्त कोच

  • 2008 में सर्वे कराया था सर्वे

रेलवे ने 69 किमी लंबी कोंच-उरई वायां जालौन रेल पथ बनाने के लिए 2008 में सर्वे कराया था। वर्ष 2012 में राठ, महोबा, भिड बाया जालौन की 218 किमी तथा 2014 में 89.68 किमी कोंच, जालौन, फफूंद रेलवे मार्ग का सर्वे करा चुका है। रेलवे द्वारा 12 वर्ष से सर्वे ही कराया जा रहा है। सरकार द्वारा बजट न मिलने से सर्वे रिपोर्ट विभाग के धूल खा रही है। 

रेल लाइन (railway line)

यह भी पढ़ें - ग्वालियर बरौनी एक्सप्रेस के चित्रकूट पहुंचने पर युवा व्यापार मंडल ने किया स्वागत

  • रेलवे लाइन के हो चुका है आंदोलन

रेल लाओ स्वाभिमान बचाओ संघर्ष समिति के तत्वावधान में रेलवे के धूल खा रहे सर्वे रिपोर्टों की स्वीकृति व नगर से होते हुए रेलवे लाइन निकलने के लिए मार्च 2016 से मई 2016 तक तहसील गेट के सामने 65 दिन तक अनशन के रूप में आंदोलन चल चुका है तथा 5 मार्च 2016 को विशाल मशाल जुलूस निकाला जा चुका है जिसमें मिला 

यह भी पढ़ें - दिल्ली हावड़ा रुट पर तेज आवाज के साथ अंबियापुर में पलटी मालगाड़ी, 22 बोगी क्षतिग्रस्त

  • सांसद से केंद्रीय मंत्री बने भानु प्रताप वर्मा को याद दिलाया वादा

भानु प्रताप वर्मा ने अपने पिछले कार्यकाल में नगर में चल रहे आंदोलन के दौरान लोगों को संबोधित करते हुए 7 अप्रैल 2016 को क्षेत्र की जनता को आश्वस्त किया था कि वह जालौन नगर को रेलवे लाइन से जोड़ने के लिए हर संभव प्रयास करेंगे।

आंदोलन समाप्त होते ही वह अपना आश्वासन भूल गए हैं तथा नई पारी मिलने के बाद भी वह 65 दिन के आंदोलन को भूलने लगे थे। अब जब सांसद केंद्रीय मंत्री बन गए हैं तो नगर के प्रतिनिधिमंडल मंडल ने सांसद को उनकी घोषणा याद दिलायी तो उन्होंने भी पूरा करने का आश्वासन दे दिया। 

गौरतलब है कि 25 फरवरी 2016 को रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने रेल बजट में महोबा से बाया राठ होते हुए उरई तक 95 किमी रेल लाइन बिछाए जाने की घोषणा की थी। इसके लिए 1800 करोड़ रुपये का प्रोजेक्ट तैयार किया गया था। लेकिन रेल बजट में 2016 में उरई रेल लाइन के लिए बजट में एक धेला भी नहीं मिला। इससे महोबा उरई रेल लाइन खटाई में पड़ गई है।

यह भी पढ़ें - अक्षय कुमार ने पूरी की रक्षाबंधन की शूटिंग, तस्वीर शेयर कर लिखी ये बात

अगर ये खबर आपको अच्छी लगी हो तो इसे लाइक और शेयर जरूर कीजियेगा, या फिर कोई सुझाव हो तो निचे कमेंट बॉक्स पर कमेंट भी कीजिये।

रेलवे से जुडी हर अपडेट के लिए फॉलो करिये हमारी वेबसाइट बुन्देलखण्ड न्यूज़ डॉट कॉम (bundelkhandnews.com) को।

What's Your Reaction?

like
3
dislike
1
love
3
funny
1
angry
1
sad
2
wow
3