परम्परा

विजयदशमी पर पान खिलाने की परम्परा खत्म

पान आधा रह गया, जलपान भी आधा रह गया। जाती रही इंसानियत इंसान भी आधा रह गया...

This site uses cookies. By continuing to browse the site you are agreeing to our use of cookies.